नशे की तस्करी करने वाले तीन छात्र गिरफ्तार

0
228

आरोपियों के कब्जे से 29 लाख रुपए का कैलिफोर्निया बेस नशीला पदार्थ बरामद

ग्रेटर नोएडा : थाना नॉलेज पार्क पुलिस व स्वाट टीम ने ड्रग तस्करी करने वाले एक गिरोह का खुलासा किया है। यह लोग टेलीग्राम पर एक ग्रुप बनाकर नशे के सामान की तस्करी किया करते थे। दिल्ली एनसीआर के बड़े-बड़े कॉलेज और हॉस्टल में इस नशे के सामान को स्टूडेंट को बेचा जाता था। पुलिस ने 3 छात्रों को गिरफ्तार किया है और इनके कब्जे से 29 लाख का कैलिफोर्निया बेस नशीला पदार्थ बरामद किया है।
डीसीपी अभिषेक वर्मा ने बताया कि थाना नॉलेज पार्क पुलिस और स्वाट टीम ने शनिवार को आईआईएमटी स्कूल के पास से तीन छात्रों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों की पहचान भानु, अधिराज और सोनू के रूप में हुई है। तीनों ही फरीदाबाद हरियाणा के रहने वाले हैं। इन तीनों लोगों के कब्जे से 960 ग्राम अवैध नशीला ओजी (मूल उत्पादक कैलिफोर्निया वीड), कैलीफ पिल एमडीएमए एक्स्टसी, 01 एलएसडी) टैबलेट व एक वजन मापने की इलेक्ट्रॉनिक मशीन व अन्य सामान बरामद किया है। बरामद नशे की कीमत करीब 29 लाख रुपए है।
टेलीग्राम गु्रप से जुड़े थे 250 लोग, डोपबाजी के नाम से बनाया था ग्रुप
डीसीपी ने बताया कि आरोपी सोनू ने टेलीग्राम पर डोपबाजी के नाम से गु्रप बनाया हुआ था। ग्रुप में ढाई सौ लोग जुड़े थे। इसी ग्रुप में ऑर्डर आता था। जिसके बाद इन तीनों के द्वारा ग्रेटर नोएडा के अलग अलग कॉलेज और होस्टल में यह नशे की खेप सप्लाई की जा रही थी। इसमें अलग-अलग ऑनलाइन एप से पेमेंट की जाती थी। यह मॉल कोरियर के जरिए भी छात्रों के द्वारा मंगाया जाता था।
विदेश से मंगाई गई नशे की खेप, क्रिप्टो करेंसी के द्वारा की गई पेमेंट
डीसीपी अभिषेक वर्मा ने बताया कि नशे की खेप कैलिफोर्निया वीड है जोकि विदेश से ट्रैफिकिंग के जरिए यहां पर मंगाई गई है। यह विदेशों से यहां तक पहुंची है और इसकी पेमेंट भी क्रिप्टो करेंसी के द्वारा की जाती थी। डीसीपी ने बताया कि नशे की यह खेप कैसे यहां तक पहुंचती थी, इस बारे में जानकारी जुटाई जा रही है। आरोपियों से पूछताछ करने पर कई सुराग हाथ लगे हैं। जल्द ही नशे के मुख्य सप्लायर को भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा।
आरोपियों के बारे में टेलीग्राम से मिला सुराग, डीसीपी ने ग्राहक बनकर दबोचा
डीसीपी ने बताया कि टेलीग्राम के माध्यम से ही इस गिरोह के बारे में पता चला था। जिसके बाद पुलिस इनकी तलाश में जुटी थी। शनिवार को सूचना मिली कि तीनों आरोपी नॉलेज पार्क के पास कई कॉलेजों में नशा सप्लाई करने आने वाले हैं। इसके बाद खुद वे ग्राहक बनकर आरोपियों के पास पहुंचे। जिसके बाद तीनों आरोपियों को पकड़ लिया गया।
छात्रों का एक बड़ा नेटवर्क कर रहा है गिरोह के लिए काम
डीसीपी ने बताया कि पकड़े गए तीनों आरोपी दिल्ली में एक कॉलेज के छात्र हैं। इन छात्रों को नशे की सप्लाई दिल्ली का ही एक व्यक्ति करता है। तीनों आरोपी नोएडा-ग्रेटर नोएडा के बड़े-बड़े कॉलेजों में पढऩे छात्रों से परिचित थे। जिसके चलते आरोपी बड़ी आराम से नशा सप्लाई कर रहे थे। आरोपी छात्रों के अलावा कुछ और भी छात्र हैं जो पैसा कमाने के चक्कर में इस गिरोह के चंगुल में फंस गए हैं। काफी छात्रों के बारे में जानकारी मिली है। इनके पूरे नेटवर्क को पकड़ा जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here