11वें ग्लोबल जर्नलिज्म फेस्टिवल का हुआ उद्घाटन 

0
67

Noida: कलम की ताकत के आगे हर इंसान सिर झुका सकता है बशर्ते लेखन में सच्चाई और ईमानदारी हो। आज जिस तरह से पत्रकारिता से अपने पांव जमाये है वो किसी से छुपा नहीं है फिर वो समाचार पत्र हो या सोशल मीडिया सभी ने अपने दायरे से उठकर काम किया है यह कहना है एएएफटी यूनिवर्सिटी के चांसलर डॉ. संदीप मारवाह का जिन्होंने तीन दिवसीय 11वें ग्लोबल जर्नलिज्म फेस्टिवल का उद्घाटन के अवसर पर। उन्होंने आगे कहा कि  अगर कोई दुनिया को बदलना चाहता है तो पत्रकारिता सबसे मजबूत हथियार है। इस अवसर पर  पत्रकारिता लेखन और कहानी कहने की एक शानदार श्रृंखला के साथ साथ छात्रों की विभिन्न कार्यशालाओं, सेमिनार, गेस्ट इंटरेक्शन व्  पोस्टर लॉन्च किया गया। अंतर्राष्ट्रीय पत्रकारिता केंद्र स्थापित पत्रकारों को महत्वपूर्ण पत्रकारिता शिक्षा प्रदान करने और उन्हें समर्थन देने के विचार को प्रेरित करती है। यह उत्सव अंतर्राष्ट्रीय पत्रकारिता केंद्र और एएएफटी विश्वविद्यालय के सहयोग से इंटरनेशनल चैंबर ऑफ मीडिया एंड एंटरटेनमेंट द्वारा आयोजित किया जा रहा है। यह आयोजन छात्रों को उद्योग में विभिन्न मीडिया विशेषज्ञों के साथ विचारों को बदलने का अवसर प्रदान करता है। इसके अलावा पत्रकारिता पर विचार गोष्ठी के साथ ‘शहीद भगत सिंह फोरम’ का पोस्टर विमोचन भी किया गया। एएएफटी के सभी स्कूलों के छात्र इस भागीदारी को लेकर बेहद उत्साहित हैं। स्कूल ऑफ फैशन डिजाइन और स्कूल ऑफ इंटीरियर डिजाइन द्वारा इंटीरियर और फर्नीचर प्रदर्शनियों के साथ फैशन शो का आयोजन किया जाएगा। स्कूल ऑफ फोटोग्राफी एक फोटो प्रदर्शनी आयोजित किया जिसमे छात्रों द्वारा रचनात्मक क्लिक प्रदर्शित किए गए। इस अवसर पर वरुण सूरी, मॉडल व अभिनेता, ज़ेना चुंग, वैश्विक सद्भावना राजदूत, फिनचैम के अध्यक्ष हिक्की रांता, निदा अहमद, पत्रकार और एंकर, नरेंद्र गुप्ता, फिल्म पत्रकार, ईरान ब्रॉडकास्टिंग के संवाददाता इस्लामिक रिपब्लिक के डॉ. अब्बास नसेरी ताहिरी, अल्फ्ऱेडो काल्डेरा, प्रभारी डी’ अफेयर्स, वेनेजुएला दूतावास उपस्थित हुए और अपने अनुभव छात्रों के साथ बांटे। इस अवसर पर अतिथियों को स्मृति चिन्ह व आजीवन सदस्यता प्रमाणपत्र दिए गए।