उत्तर प्रदेश की जनता ने भाजपा को सत्ता से हटाने का मन बना लिया है: अखिलेश यादव

0
59

NOIDA NEWS: समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश अखिलेश यादव ने रविवार को नोएडा में एक कार्यक्रम के दौरान भाजपा सरकार को जमकर कोसा और कहा कि प्रदेश की जनता भाजपा से बुरी तरह त्रस्त है और उसने अब सत्ता से भाजपा को विदा करने का मन बना लिया है। कोसी विधानसभा में 50 हजार मतों के अंतर से मिली जीत से वे काफी गदगद दिखाई दिए। पुर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव समाजवादी छात्र सभा के पूर्व जिला अध्यक्ष प्रिंस यादव के दादा किसना सिंह यादव व दादी हीरा देई की मूर्ति का अनावरण करने नोएडा सेक्टर 73 स्थित सर्फाबाद गांव पहुंचे थे। यहां पर उन्होंने जातीय जनगणना पर जोर दिया और कहा कि बिना जातीय जनगणना के सामाजिक न्याय संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि नोएडा और नोएडा के आसपास जो विकास की योजनाएं बनी और जो विकास के कार्य हुए उसमें सबसे ज्यादा काम समाजवादी पार्टी की सरकार में हुए हैं। जो भी बड़े-बड़े काम सपा सरकार में हुए धरातल पर आज वही दिखाई देता है। भाजपा सरकार का कोई भी काम कहीं नजर नहीं आता। विकास पर अरबों रुपए खर्च करने के बावजूद पत्रकारों को खबरों को छापने से रोका जाता है। पढ़ लिख कर बड़ी-बड़ी डिग्रियां लेने के बावजूद प्रदेश का युवा रोजगार और नौकरी को लेकर परेशान है। उत्तर प्रदेश को 1 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बनाने के लिए जितने भी एमओयू साइन हुए हैं उसका 10 प्रतिशत भी जमीन पर नहीं पहुंचा है। सड़कों से पशु आज भी नहीं हटा पाये हैं। हर दिन कोई ना कोई घटना होती है जिसमें जानवर की चपेट में आने से एक व्यक्ति की मौत हो जाती है। किसानों की समस्याओं पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि किसानों को सबसे ज्यादा मुआवजा देने का काम सपा सरकार ने किया है। भाजपा सरकार किसान की जमीन लेकर मुनाफा कमाना तो चाहती है मगर इन किसानों को मुनाफा देना उसे पसंद नहीं है। इस अवसर पर प्रदेश सचिव पंडित रवि शर्मा, भरत यादव, जितेंद्र यादव, महेश यादव, सुंदर यादव, मोहम्मद तसलीम, राकेश यादव, महेंद्र यादव, वीर सिंह यादव, सुनील चौधरी, ओमपाल राणा, सुबे यादव, विकास यादव, आश्रय गुप्ता, राणा मुखर्जी, फकीरचंद नागर, गजराज नागर, राजकुमार भाटी, बिलाल बर्नी, अमित पाल, प्रदीप भाटी समेत हजारों की संख्या में क्षेत्र के गणमान्य लोग व समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता व पदाधिकारी मौजूद थे।