ऑनलाइन गेमिंग फ्रॉड के 16 आरोपी गिरफ्तार, 400 करोड़ किए ट्रांसफर

0
51

Noida: पुलिस ने ऑनलाइन गेमिंग फ्रॉड (महादेव बुक ऐप) करने वाले 16 लोगों को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए आरोपियों के 10 बैंकों के 26 फर्जी बैंक खाते में 400 करोड़ से ज्यादा रकम की ट्रांसफर की गई है। पुलिस ने 22 खातों से लगभग पुलिस ने 1 करोड़ 86 लाख रुपए फ्रीज कर दिया है। आरोपियों के पास से 12 लैपटॉप , 73 मोबाइल फोन , 6 पासबुक, 90 एटीएम कार्ड बरामद हुए हैं। पुलिस ने आरोपियों को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया है। थाना सेक्टर 39 पुलिस ने आरोपियों को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया है।
नोएडा जोन डीसीपी हरीश चन्द्र ने बताया कि ऑनलाइन गेमिंग फ्रॉड डी 309 के सेक्टर 108 से चलाया जा रहा था। महादेव बुक ऐप के जरिये ये लोग फ्रॉड करते थे। ऑनलाइन गेमिंग फ्रॉड का ये पूरा काला कारोबार 500 रुपए से शुरू होता था। आरोप है कि ऑनलाइन गेमिंग महादेव बुक एप का मालिक सौरभ डील कराता था। ऑनलाइन गेमिंड फ्रॉड के कनेक्शन दुबई से जुड़ रहे हैं। दुबई से ही ट्रेनिंग करके फ्रॉड को अंजाम दिया जाता था। बताया जा रहा है कि 2 लोग ट्रेनिंग करके अभी भारत आकर फ्रॉड कर रहे हैं। 10 बैंकों के 26 फर्जी बैंक एकाउंट के 400 करोड़ से ज्यादा रकम की ट्रांसफर की गई है। पुलिस ने 22 खातों से लगभग पुलिस ने 1 करोड़ 86 लाख रुपए फ्रीज कर दिया है। पकड़े गए आरोपियों की पहचान इनकी पहचान तरूण लखेड़ा निवासी गोपाल निखडा जिला झांसी, राहुल निवासी कोटरा जिला जालौन, अभिषेक प्रजापति, हिमांशु, अक्षय तिवारी, नीरज गुप्ता, दीपक, आकाश जोगी, निवासी बड़ा बाजार झांसी, आकाश साहू निवासी सुनेखा खिडक़ी झांसी, अनुराग वर्मा निवासी आयल मिल झांसी, विवेक, दीपक कुमार निवासी पटोदिया झांसी, विशाल शर्मा निवासी लहरगेट झांसी, रावत निवासी लक्ष्मीगेट झांसी, दिव्य प्रकाश निवासी गंगाप्रसाद रोड लखनऊ, हर्षित चौरसिया निवासी एबट कम्पाउण्ड झांसी के रूप में हुई है।
डबल का झांसा देकर लोगों को लेते थे झांसे में: डीसीपी ने बताया कि गेम की शुरुआत 500 रुपए से शुरू होती थी। गेम में हारे हुए कस्टमर को जीता हुआ दिखाकर उनको पैसे डबल कर के भेज दिया जाता था। इस वजह से लोग इनके झांसे में आने लगे और गेम में लाखों रुपए लगाने लगे। गेम में अगर अमाउंट एक लाख से अधिक हो जाता था तो यह ठग खेल रहे कस्टमर का अकाउंट ब्लॉक कर के पैसे को ट्रांजैक्शन कर लिया करते थे।
दुबई के अलावा नेपाल और थाइलैंड में बैठे हैं इस गेम के अन्य आरोपी: एसीपी रजनीश वर्मा ने बताया कि इस ऐप का मास्टरमाइंड दुबई में बैठकर सौरभ चंद्राकर है। हर महीने सौरभ महादेवा बुक ऐप से 300 करोड़ रुपए की कमाई करता है। दुबई के अलावा नेपाल और थाईलैंड में बैठे अन्य आरोपी भी इस गेम को चल कर लोगों से ठगी कर रहे हैं। इस खेल में लाए गए अन्य फर्जी बैंक खातों की जानकारी हासिल की जा रही है। इस खेल का नेटवर्क, नेपाल बांग्लादेश श्रीलंका समेत 11 देशों में फैला हुआ है। अन्य आरोपियों को जल्द पकडऩे के लिए दबिश दी जा रही है। जल्द उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा।