गैस इंडिया एक्सपो 2023 का विधायक धीरेन्द्र सिंह ने किया उद्धाटन

0
46

Greater Noida: नोएडा भारत उर्जा की दृष्टि से दुनिया के सबसे तेज़ी से विकसित होते बाज़ारों में से एक है और यूएस एवं चीन के बाद उर्जा एवं तेल के तीसरे सबसे बड़े उपभोक्ता के रूप में उभरा है। अपनी उर्जा संबंधी ज़रूरतों के लिए भारत मुख्य रूप से एलएनजी पर निर्भर है तथा दुनिया में एलएनजी का चौथा सबसे बड़ा आयातक है। भारत का आर्थिक विकास इसकी उर्जा की मांग पर निर्भर करता है, ऐसे में आने वाले समय में तेल एवं गैस की मांग बढऩे का अनुमान है। इस सेक्टर में निवेश की अपार संभावनाएं हैं। तेल एवं गैस सेक्टर भारत के आठ मुख्य उद्योगों में से एक है तथा अर्थव्यवस्था से जुड़े सभी मुख्य पहलुओं के लिए निर्णय निर्धारण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
गैस इंडिया एक्सपो 2023 का उद्घाटन आज नोएडा में हुआ, यह अन्तर्राष्ट्रीय प्रदर्शनी गैस के उत्पादन, प्रसंस्करण, रिफाइनिंग, रीफ्यूलिंग, गैस टेक्नोलॉजी, उपकरणों, उत्पादों, निर्माण तकनीकों, प्लांट्स, सेवा प्रदाताओं एवं संबंधित उद्योगों पर ध्यान केन्द्रित करेगी। प्रदर्शनी का आयेजन 6 से 8 जुलाई 2023 के बीच ग्रेटर नोएडा, यूपी, भारत में किया जा रहा है। इसका आयोजन इंडियन ट्रेड फेयर एकेडमी एवं इंडियन एक्ज़हीबिशन सर्विसेज़ द्वारा फेडरेशन ऑफ इंडियन पेट्रोलियम इंडस्ट्री के सहयोग से किया जा रहा है, इसे भारत सरकार के एमएसएमई मंत्रालय का सहयोग प्राप्त है। प्रदर्शनी का उद्घाटन धीरेन्दर सिंह, माननीय एमएलए, जेवर, यूपी, भारत द्वारा किया गया।


गैस इंडिया 2023 एक्सपो एक अन्तर्राष्ट्रीय प्रदर्शनी है, जो इस सेक्टर की विशिष्ट आधुनिक तकनीकों, निर्माण प्रक्रियाओं, सेवाओं, विकास कार्यां, तकनीकों एवं उपकरणों पर रोशनी डालेगी। कार्यक्रम में राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय र्गस उद्योग से खरीददार, निर्णय निर्माता और बड़ी संख्या में आगंतुक हिस्सा लेंगे। दुनिया भर से उद्यम एवं पेशेवर आगंतुक इस मंच पर पहुंचेंगे, जो ट्रेडिंग, टेक्नोलॉजी के विनिमय, आयात-निर्यात एवं जानकारी के आदान-प्रदान के लिए महत्वपूर्ण प्लेटफॉर्म की भूमिका निभाएगा, साथ ही गैस उद्योगके विकास को बढ़ावा देगा।
इस मौके पर धीरेन्द्र सिंह विधायक जेवर ने कहा, ”भारत सरकार ने उर्जा की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए आधुनिक नीतियों एवं पहलों को अपनाया है तथा देश में भी तेल एवं गैस का घरेलू उत्पादन बढ़ाने पर ध्यान दिया जा रहा है। उर्जा की दक्षता एवं उत्पादकता बढ़़ाने, जैविक ईंधन एवं अन्य वैकल्पिक ईंधन के इस्तेमाल को बढ़ावा देने की दिशा में भी प्रयास किए जा रहे हैं। सरकारी संस्थाओं ने इस सेक्टर के विभिन्न सेगमेन्ट्स में 100 फीसदी प्रत्यक्ष विदेशी निवेश की अनुमति दी है, जिसमें प्राकृतिक गैस, पेट्रोलियम उत्पाद और रिफाइनरीज़ शामिल हैं। गैस आधारित अर्थव्यवस्था पर ध्यान केन्द्रित करते हुए हमने भारत के उर्जा मिश्रण में प्राकृतिक गैस के योगदान को 2030 तक 15 फीसदी तक लाने का लक्ष्य रखा है, जो वर्तमान में 6.3 फीसदी है। इसी के मद्देनजऱ देश में प्राकृतिक गैस के बुनियादी ढांचे में सुधार लाकर ‘एक देश, एक गैस ग्रिडÓ की अवधारणा पर पर काम किया जा रहा है। इस तरह की प्रदर्शनियां, और सम्मेलन देश-विदेश के गैस उद्योग से उच्च गुणवत्ता के आगंतुकों, खरीददारों एवं निर्णय निर्माताओं को आकर्षित करेंगी।Ó
गैस इंडिया एक्सपो 2023 को गैस उद्योग के सभी मुख्य कारोबार संगठनों जैसे ऑल इंडिया एसोसिएशन ऑफ इंडस्ट्रीज़, एसोसिएश्ज्ञन ऑफ ऑयल एण्ड गैस ऑपरेटर्स, एसोसिएशन ऑफ वेल्डिंग प्रोडक्ट्स मैनुफैक्चरर्स, इंडियन बायोगैस एसोसिएशन, नैचुरल गेस सोसाइटी एवं नोएडा एंटरेप्रेन्योर्स एसोसिएशन का समर्थन प्राप्त है।ÓÓ
स्वदेश कुमार, डायरेक्टर इंडियन एक्ज़हीबिशन सर्विसेज़ ने कहा, ”यह एक उत्कृष्ट मंच है जो गैस उद्योग से जुड़ी नई तकनीकों, जानकारी एवं रूझानों तथा इस क्षेत्र में विकास के अवसरों पर रोशनी डालेगा। जीआईई 2023 में दुनिया भर से सभी मुख्य ओद्यौगिक संगठनों से जुड़े हितधारक हिस्सा लेंगे। जीआईई 2023 का पहला संस्करण अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर कारोबार के विकास के लिए मंच उपलब्ध कराएगा, जहां प्रदर्शकों अपने कारोबार का विस्तार, तकनीकों का विनिमय, नए उत्पादों का प्रदर्शन करने तथा साझेदारियों का अवसर मिलेगा।Ó
वर्ल्ड गैस समिट 2023 के मुख्य अतिथि हैं- मिस मारियारोसा बरोनी, संस्थापक एवं सीईओ, एनजीवी इंट. एकेडमी, प्रेज़ीडेन्ट ऑफ ट्रांसपोर्ट एण्ड मोबिलिटी कमेटी सीयूएनए, मिलान, इटली। देश विदेश से हिससा लेने वाले प्रवक्ताओं में शामिल हैं- राजीव माथुर, एक्ज़क्टिव डायरेक्टर, गेल इंडिया, सुभोजीत बोस, एक्ज़क्टिव डायरेक्टर, ओएनजीसी, देविन्दर पाल सिंह, ज़ोनल हैड नोएडा, इंद्रप्रस्थ गैस लिमिटेड आदि। प्रवक्ताओं गैस उद्योग से जुड़े मुख्य विषयों पर चर्चा एवं वाद-विवाद करें, तथा अपने विचार प्रस्तुत करेंगे। वर्ल्ड गैस समिट नीति निर्माताओं, अनुसंधानकर्ताओं, निर्माताओं, अकादमिकज्ञो, उद्योगपतियों एवं सरकारी एजेन्सियों को ग्लोबल नेटवर्किंग के अवसर प्रदान करेगा। यह सम्मेलन गैस उद्योग के पेशेवरों को गैस एवं संबंधित उद्योग के विशेषज्ञों से बातचीत का अवसर भी प्रदान करेगा।