मानवता की सेवा के लिए हमेशा तत्पर रहता है संत: माता सुदीक्षा जी महाराज

0
132

नोएडा। निरंकारी सदगुरू माता सुदीक्षा महाराज ने समालका स्थित आध्यात्मिक स्थल पर 75वॉ वाषिक निरंकारी सन्त समागम के दूसरे दिन कहा कि रूहानियत और इंसानियत से ही हम पूर्ण इंसान बन सकते है। मानवता के नाम संदेश में उन्होंने कहा कि दो वर्ष के बाद यहां देश-विदेश से भक्तजन एवं संत जन एकत्रित हुए हैं। कोविड महामारी के दौरान इंसान का इंसान से मिलना संभव नहीं हो पा रहा था, लेकिन संत हर समय मानवता की सेवा के लिए तत्पर रहते है। इसी का प्रमाण कोविड के दौरान रक्तदान शिविर, निरंकारी भवनों का कोविड केयर केद्रों में परिवर्तित करने, कोविड टीकाकरण के लिए विशेष शिविर और जरूरतमंदों की सहायता करते हुए संतजनों ने दिया।
आजादी के अमृत महोत्सव का जिक्र करते हुए सदगुरू माता सुदीक्षा जी महाराज ने कहा कि मिशन भी 75वॉं वाषिक निरंकारी सन्त समागम मना रहा हैं। देश की आजादी में हम भौतिक रूप में तो आजाद हो गए, लेकिन रूह कि आजादी परमात्मा की पहचान से ही संभव हैं। इस के उपरांत ही सही अर्थ में मानवीय गुणें से युक्त जीवन जिया जा सकता हैं और मुक्ति भी प्राप्त हो सकती हैं।