व्यापारी रचित की गोली मारकर हत्या करने वाले तीन बदमाश गिरफ्तार

0
103

Noida: थाना सेक्टर-58 पुलिस द्वारा रचित की गोली मारकर हत्या करने व कैश लूटने वाले तीन बदमाशों को गिरफ्तार किया है। बताया गया है कि व्यापारी के पड़ोस में रहने वाले एक युवक ने की रेकी थी। इनके कब्जे से लूटे गए तीन लाख रुपए में से 2 लाख 16 हजार 420 रुपए, बाइक और अवैध हथियार बरामद किए है। पुलिस ने आरोपियों को जेल भेज दिया है।
डीसीपी हरीश चंदर ने बताया कि 21 अप्रैल को हुई व्यापारी रचित चौहान के हत्या के आरोपियों को पकडऩे के लिए 4 टीम लगाई गई थी। तकनीकी सर्विलांस, दुकान के आस-पड़ोस व घटना स्थल के आस पास लगे लगभग 1000 सीसीटीवी कैमरे चेक किए गए। 200 से ज्यादा संदिग्धों के मोबाइल डाटा एकत्र किए गए। लोकल इंटेलिजेंस के बाद साहिल उर्फ शहवाज, बिज्जी ऊर्फ विजय और आदी उर्फ दिव्यांशु को सीडैक कंपनी के पास सी ब्लाक सेक्टर 62 से गिरफ्तार किया गया। उन्होंने बताया कि पकड़ा गया दिव्यांशु मैकेनिकल इंजीनियरिंग का छात्र रहा है। इसके द्वारा दिल्ली में देह व्यापार का काम भी कराया जाता है। बिज्जी उर्फ विजय उर्फ ब्रिजेश नूहू मेवात का रहने वाला है। धारा 302 के मुकदमे में पैरोल पर बाहर है। शहबाज पहले डकैती के मुकदमे में जेल जा चुका है। गाजियाबाद के गैंगस्टर का मुलजिम है, पिछले 04 सालों से खोंड़ा में रह रहा था। बताया गया कि बिज्जी दिल्ली में जुआ व सट्टा खेलने वालों से महीने की वसूली करता है। हत्या में प्रयोग की गई पिस्टल उसने उसने काफी पहले शेरनी उर्फ शकील से 40 हजार रुपए में खरीदी थी। शेरनी दिल्ली की किसी जेल में बंद है।
21 की जगह 19 अप्रैल को देना था वारदात को अंजाम: डीसीपी हरीश चंदर ने बताया बदमाश पैसे वाले व्यापारियों को चिह्नित कर पहले उनकी रेकी करते थे। इसके बाद उनसे लूटपाट करते थे। इन लोगों ने रचित को देखा। उसके कारोबार और आमदनी से वाकिफ थे। इसलिए लूट के लिए रचित को चिह्नित किया। 19 अप्रैल को इसी मोटर साइकिल से रचित का दिब्यांशु और बिज्जी ने पीछा किया। रास्ता व गलियों की सही जानकारी नहीं थी इसलिए छोड़ दिया।
साहिल ने रेकी कर बताया लूटपाट कर भागने का रास्ता: दिव्यांशु और बिज्जी ने शाहवाज उर्फ साहिल से संपर्क किया। साहिल ने रचित के जाने का रास्ता, उसके घर का रास्ता दिखाया। साथ ही घटना करने के बाद भाग जाने का रास्ता भी साहिल ने ही दिखाया। रचित के बारे में भी साहिल ने सारी जानकारी रेकी करके दोनों को दी थी। उसने बताया था कि रचित डिस्पोजल सामान का व्यापारी है रोज लाखों रुपए के सेल होती है। इसे आराम से लूटा जा सकता है।
रेकी के लिए 75 हजार रुपए: साहिल ने रचित की रेकी की। इसके लिए बिज्जी और दिव्यांशु ने साहिल को 75 हजार रुपए भी दिए। बाकी रुपए दोनों ने आधे आधे बांट लिये। इसमें 13 हजार 500 रुपए की एक स्कूटी खरीदी। बता दे रचित चौहान की खोंड़ा कालोनी दीपक विहार गली नंबर-7 में स्टार इंटर प्राइजेज के नाम से दुकान है।
ये था मामला: 21 अप्रैल को रात साढ़े 10 बजे रचित की हत्या कर दी जाती है। इससे पहले साहिल ने रचित की रेकी की और जानकारी बिज्जी और दिव्यांशु को दी। रचित अपनी दुकान बंद करके जब दुकान की बिक्री का पैसा थैले में रखकर अपनी स्कूटी से अपने घर रजत विहार सेक्टर-62 जा रहा था। जैसे ही वह रजत विहार टी-पाइंट के पास पंहुचा। वही पर लगे फलुदा के ठेले से फलुदा खरीद रहा था। तभी बिज्जी और दिब्यांशु ने गोली मारकर रचित के पैसों का बैग लेकर भाग गए।