कार के टायर चोरी करने वाले गिरोह का भंडाफोड़

0
107

Noida: थाना सेक्टर 20 पुलिस ने पांच मिनट में लग्जरी कारों के टायर चोरी करने वाले एक अंतरराज्यीय गिरोह के सरगना समेत चार लोगों को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए आरोपी अब तक 150 घटनाओं को अंजाम दे चुके है। आरोपी महज पांच मिनट के अंदर टायर चोरी कर ये फरार हो जाते थे। इनके पास से 30 अलॉय व्हील टायर, घटना में प्रयोग की जा रही हुंडई एसेंट कार बरामद की है। पुलिस ने आरोपियों को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया है।
एडीसीपी शक्ति अवस्थी बताया कि थाना सेक्टर 20 पुलिस ने बुधवार रात गिरोह का सरगना राजू गुर्जर, ललित माथुर, मनीष सिंह बिष्ट, चन्द्र भूषण उर्फ शंभु को डीएलएफ मॉल के पास नाले से गिरफ्तार किया गया है। यह अन्तर्राज्यी टायर चोरों का गिरोह है। इसका मास्टर माइंड राजू गुर्जर है। यह गिरोह दिल्ली एवं एनसीआर क्षेत्र गाजियाबाद व नोएडा में सेक्टरों व कॉलोनियों में खड़ी कारों के व्हील चोरी करते है। ये काम गिरोह पिछले आठ सालों से कर रहा था। गैंग सरगना राजू गुर्जर के खिलाफ दिल्ली में कार व्हील चोरी करने के करीब 32 मुकदमे दर्ज है। उन्होंने बताया कि गिरोह अपनी कार से दिल्ली व एनसीआर में आवासीय सेक्टरों व कालोनी यों में रात के समय रेकी करते थे। इस दौरान ये देखते थे कि कहां पर नए मॉडल की गाडिय़ां असुरक्षित स्थानों पर खड़ी है । ऐसी गाडियों को चिह्नित कर बहुत तेजी के साथ गाड़ी के नीचे जैक लगाकर पांच मिनट के अंदर ही व्हील खोल कर अपनी गाड़ी में लादकर फरार हो जाते थे।
रेकी करने से पहले कार पर लगाते थे फर्जी नंबर प्लेट: गैंग सेक्टरों व कॉलोनियां में रैकी करने से पहले अपनी कार पर फर्जी नंबर प्लेट लगा लेते थे। एक बार उपयोग की गई फर्जी नंबर प्लेट अगले दिन उपयोग नहीं की जाती थी। अगली चोरी के लिए नई फर्जी नंबर प्लेट लगाई जाती थी। चोरी किए गए कार व्हील को एक सुरक्षित स्थान पर रखते थे।
टैक्सी चालकों को पांच से 10 हजार रुपए में बेचते थे टायर: बदमाश दिल्ली, गाजियाबाद व नोएडा में टैक्सी स्टैंड पर आने वाले टैक्सी चालकों व कार मार्केट में आने वाले ग्राहकों से सम्पर्क कर उन्हें एक व्हील पांच से 10 हजार रुपए की कीमत में बेच देते थे। यह गिरोह टैक्सी स्टैंड व कार मार्किट में घूम कर ग्राहकों से डिमांड की जानकारी करते थे। इसी डिमांड के अनुसार रैकी कर कारों के व्हील चोरी करते थे।