नई शिक्षा नीति में मनुष्य निर्माण की गतिविधियों पर बल दिया गया है: डी रामकृष्ण राव

0
69

NOIDA NEWS: विद्या भारती अखिल भारतीय शिक्षा संस्थान के द्वारा सोमवार को सेक्टर 12 स्थित भाऊराव देवरस सरस्वती शिक्षा मंदिर में एक प्रेस वार्ता का आयोजन हुआ। जिसमें विद्या भारती अखिल भारतीय शिक्षा संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष डी रामकृष्ण राव, विद्या भारती अखिल भारतीय शिक्षा संस्थान के अखिल भारतीय महामंत्री अवनीश भटनागर, भारतीय शिक्षा समिति के प्रांत मंत्री राम वरुण, भाऊराव देवरस शिक्षा मंदिर के उपाध्यक्ष रमन चावला, प्रधानाचार्य सोमगिरि, संगठन मंत्री रवि कुमार आदि उपस्थित रहे। इस अवसर पर राष्ट्रीय अध्यक्ष डी रामकृष्ण राव ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 की अनुशंसाओं का स्वागत करने के साथ समुचित रूप से इसको क्रियान्वयन करना विद्या भारती की प्राथमिकता है। प्रसन्नता की बात है कि इस भारत केंद्रित शिक्षा नीति में मनुष्य निर्माण की गतिविधियों पर बल दिया गया है, जो कि प्रारंभ काल से विद्या भारती के 28 व्यक्तित्व विकास के विषयों के रूप में हमारे दृष्टिकोण का भाग था। विद्या भारती द्वारा किए गए प्रयोग जैसे विद्यालय सामाजिक चेतना का केंद्र बने, सर्वांगीण विकास, समग्र विकास, पंचकोशात्मक विकास तथा अधिगम की पंचपदी पद्धति आदि को राष्ट्रीय पाठ्यक्रम 2023 में महत्वपूर्ण स्थान दिया गया है। विद्या भारती के विषय विशेषज्ञों ने बाल्यावस्था शिक्षा एवं देखभाल स्तर के लिए पुस्तकों की रचना करने में एनसीईआरटी की सहायता की है। इसी के साथ उन्होंने बताया कि स्कूली शिक्षा के साथ ही विद्या भारती ने अब उच्च शिक्षा के क्षेत्र में भी कदम रख दिया है। गुवाहाटी में एक विश्वविद्यालय तथा देश भर में 53 महाविद्यालयों जिनमें अधिकांश शिक्षा महाविद्यालय हैं के साथ विद्या भारती आगे बढ़ रहा है। इसके अलावा हिमाचल प्रदेश के शिमला और मंडी लद्दाख के कारगिल तथा नागालैंड के पेपर में चार जन शिक्षण संस्थान संचालित है। कई औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान भी चल रहे हैं।